आप यहाँ हैं होम (घर) / क्रेडिट एवं डेबिट कार्ड/एटीएम के सुरक्षित उपयोग

क्रेडिट एवं डेबिट कार्ड/एटीएम के सुरक्षित उपयोग

क्रेडिट एवं डेबिट कार्ड/एटीएम के सुरक्षित उपयोग

 

सुरक्षा जोखिम

पहचान की चोरी

आर्थिक लाभ के लिए किसी व्यक्ति की निजी पहचान सूचना का अधिग्रहण तथा इस्तेमाल करना जिसे हम मुख्यतः दो वर्गों में बांट सकते हैं:

  • ऐप्लिकेशन की जालसाजी

ऐप्लिकेशन की जालसाजी तब की जाती है, जब कोई अपराधी किसी चुराई या नकली दस्तावेजों के जरिए किसी अन्य व्यक्ति के नाम से खाता खुलवाता है। अपराधी यूटीलिटी बिल तथा बैंक स्टेटमेंट चुराने की कोशिश कर सकता है, ताकि वह आपकी जरूरी जानकारी हासिल कर सके। .

  • खाते का अधिग्रहण

खाते का अधिग्रहण उस स्थिति में होता है, जब कोई अपराधी किसी अन्य व्यक्ति के खाते पर अपना अधिकार कर लेता है, जिसके लिए पहले तो वह लक्षित शिकार व्यक्ति की जानकारी इकट्ठा करता है, और तब कार्ड जारी करने वाले से उसी व्यक्ति के रूप में संपर्क करता है, और उससे सभी ई-मेल को नए पते पर भेजने का अनुरोध करता है। तब वह व्यक्ति कार्ड के खो जाने की सूचना देता है और नए-पर-नए कार्ड भेजने की मांग करता है।

क्रेडिट कार्ड धोखाधड़ी

अवैध तरीके से धोखा देकर किसी अन्‍य व्‍यक्ति के क्रेडिट कार्ड से वस्‍तुऍं या सेवा प्राप्‍त करने को क्रेडिट कार्ड धोखाधडी कहते हैं। तथापि, इसमें कार्ड धोखाधडी के अन्‍य तरीके भी शामिल हो सकते हैं जैसे – डेबिट कार्डस एवं स्‍टोर कार्ड, उदाहरणार्थ, कार्ड की कॉपी निकाल कर यह किया जा सकता है, किसी साधारण नियमित व्‍यवहार के समय 'स्किमिंग' कर के, कार्ड चोरी कर के एवं डाक में ही इसके साथ हस्‍तक्षेप करके एवं और अनेक रचनात्‍मक उपयोगों के लिये कार्ड की धोखाधड़ी की जा सकती है।

फिशिंग:

यूज़रनेम, पासवर्डस् एवं क्रेडिट कार्ड की जानकारी जैसा विवरण इलेक्‍ट्रॉनिक कम्‍युनिकेशन की मदद से चुराने के तरीके को फिशिंग कहते हैं जिसमें फिशिंग करनेवाला स्‍वयं एक विश्‍वसनीय संस्‍था होने का आभास दिलाता है। फिशिंग विशेषत: ई-मेल स्‍पूफिंग या तत्‍काल संदेश के साथ की जाती है एवं ये वैध लगनेवाली एक अवैध वेबसाईट की ओर यूज़र को निर्देशित करती है।

स्किमिंग

क्रेडिट कार्ड या डेबिट कार्ड की जानकारी की चोरी को स्किमिंग कहते हैं। इस तरीके में चोर अपने शिकार के क्रेडिट कार्ड का नंबर रसीदों की फोटो कॉपिंग कर के या और अधिक विकसित तरीकों से जैसे एक छोटा-सा इलेक्‍ट्रॉनिक उपकरण (स्किमर) का प्रयोग कर के सैकड़ों क्रेडिट कार्ड नंबर अपने पास संग्रहित कर सकते हैं। स्किमिंग की सकनेवाले स्‍थान होते हैं रेस्‍तरॉं या बार जहॉं आपके क्रेडिट कार्ड आपकी नजरों से कुछ समय के लिये दूर रहते हैं।

विशिंग

यह टेलीफोन प्रणाली पर सोशल इंजीनियरिंग की एक विधि होती है, जहां प्रायः वॉयस ओवर आइपी (VoIP) द्वारा समर्थित फीचरों का इस्तेमाल कर निजी तथा आर्थिक जानकारी हासिल की जाती है और उसका गलत इस्तेमाल किया जाता है। यह शब्द ‘वॉयस’ तथा ‘फिशिंग’ के संयोजन से मिलकर बना है।

सोशल इंजिनियरिंग:

Sसोशल इंजिनियरिंग में पहले विश्‍वास जीता जाता है – इसलिये धोखाधडी करनेवाला स्‍टाफ या कोई सुरक्षा कर्मचारी तक होने का नाटक करता है। फिर यह धोखेबाज़ ग्राहक से कार्ड को क्षति तो नहीं हुई यह देखने को कहता है। यह धोखेबाज़ अपने शिकार ग्राहक का विश्‍वास पहले ही जीत चुका होता है जैसे कि एटीएम से पैसे निकालने में ग्राहक की मदद करना एवं एटीएम मशीन का प्रयोग करने में मदद करना तथा किसी भी प्रकार की मदद करना।

एनिमेटेड वीडियो

ब्रोशर डाउनलोड

संबंधित लिंक
घटना प्रतिवेदन

किसी भी घटना की रिपोर्ट करने के लिए, कृपया यहाँ पर जाएँ http://www.cert-in.org.in

This is Schools Diazo Plone Theme